lirikcinta.com
a b c d e f g h i j k l m n o p q r s t u v w x y z 0 1 2 3 4 5 6 7 8 9 #

lirik lagu haadse – kidshot

Loading...

याह याह

देखे जो ख्वाब
मैं करुंगा पुरा ना
मुझे बाता के
कारु में
क्या

लेके अलाब
मैं बनुंगा बुरा है
मुझे पाता
ये तेरे रिवाज़
ये तेरा समाज
रख तेरे पास
ना मुझे सता
ना आता में बाज़
बंदा में बाज़
रखु न आस
और तुझे लगा ये के

बंदा ये फेके
मारू में लाफे
हम माथा ना टेके
घुमना है पुरी दुनिया जी
हाँ वो भी माता को लेके
बातों में किस्से
बाटूं में किस्से
हो जाते फैन वोह मेरे
हुनर है तुझ में
हुनर है मुझ में
फरक है मैंने वोह देखे
और जभी भी लगा मुझे
मैं न करपाउंगा ये चीज़
कहा की
लगेगी देर इस चीज़ में
पर जाउंगा मैं जीत
क्या मैं भरपाउंगा ये फीस जो
आनेवाली मेरे पास मेँ ब्रो
देखु न पीछे में गलती से
क्योंकि मेरा पास्ट है वो

क्या अग्ली पीडी पुछेगी
की तुम किस कास्ट के हो
या कोई दिखा गरीब तो उसको
खाना लास्ट में दो मैं
गुज़रा रास्ते से
उसपे पडे लाश थे दो
सब करना चाहते मदद
ना पुछा कोई किस जात के हो तो

तो ये एनफ है ब्रो
हम हो रहे हैं एवोल्व है ब्रो
जो सोराहे वो स्लो बाडे
वो माँगे ग्यान तो बाटले ब्रो
क्या पता क्या आगे हो
खेल रहे हम आग से ब्रो
तू फोन पे तेरे दोस्त के साथ
और बाटे कल के हादसे जो
हुए थे रात को ही जो ब्लास्ट पे थी
वोही ट्रेन में तेरा बाप भी था
और साथ में थी
तेरी बेहन छोटी
जो बस सात की थी

मुझे पता ये घटना
काल्पनिक पर लाज़मी भी
तो डर को लेके चल
पर्खो खुदको लेके फल
तू हर जगह से कैपेबल

अगर जवाब है ये अकल
तो हर जगह पे थेकेदार
जो फेके जाल
तो फस मत तू भी देके मार
ये नाव जा तू भी लेके पार
जो घाव है तेरे भरदे आज

सर से पाव तक
तू करदे उनके परदे फाश
ना होता सेहन मुझे
जब देखु मैं
ये बढते दाम
लडते आज
शेहर है पाक
पर सडके जाम
अब तू मुझे बाता के
क्यों नही भडके अवाम
जो तुझे है करनी बात
तो बेटे पेहले मेरे सामने नाच
पेटी में लूं एडवांस
और आदा फिर लुंगा में कामके बाद
फिर बनू में तेरा भगावान
बेशक चाए के बाद
करे तू चाए पे बात
और बनायेगा राई का पहाड

लाई ये बहार
तो तेहरना सीख
मैं हूँ खबीब
ना लेता हूँ कभी में एल
कमाता में दिल
बंदा मैं हूं कठिन ना

पायेगा समझ तू
हिप हॉप का मैं कवच हूँ
मिटा दूं तेरा अस्तित्व सीन से
तू बस एक पंच दूर
तू मज्दूर
मैं मस्त हूँ
ना मज्बूर
मैं अर्जुन

लगाता में एसा निशाना
ना पडा बिछाने को तेरा ये दस्तूर
मैं चर्च हूं
क्योंकी वो बोले
पकडता खाली में मास
जो कुरु मैं आज
वो आएगा समझ
सबको दस साल बाद

तू रख माल साथ
फुकेंगे सब
सब शाम तक
तू बस आम खा न गुट्लिया
तू गिन खामखा
मैं तीस मार खां
हूँ एक साथ मैं तीस मारता
हूँ वार के लिए रेडी
पर मुझेको पीस मांगता
वर